Bikaner Live

जाम्भाणी साहित्य सदन मुकाम का हुआ ~भूमिपूजन समारोह
जाम्भाणी साहित्य अकादमी


जाम्भाणी साहित्य अकादमी बीकानेर द्वारा निर्मित किए जा रहे जाम्भाणी साहित्य सदन मुकाम का भूमिपूजन समारोह शनिवार 15 जुलाई को को संपन्न हुआ। अकादमी की अध्यक्षा प्रो (डॉ) इंद्रा विश्नोई ने बताया कि पर्यावरणीय चेतना और युक्ति- मुक्ति की संदेश वाहिनी गुरु जाम्भोजी की सबदवाणी और जाम्भाणी संत कवियों की वाणीयों के संरक्षण,संवर्धन, प्रकाशन और प्रचार-प्रसार, बच्चों में संस्कारों के बीजारोपण के लिए संस्कार शिविर, ज्ञान परीक्षा और देश-विदेश में राष्ट्रीय- अंतरराष्ट्रीय सेमिनारों के द्वारा पर्यावरण संरक्षण,मानव मूल्यों व सद्भावना के लिए स्थापित जाम्भाणी साहित्य अकादमी के साहित्य सदन मुकाम में बनने से लाखों की संख्या में मेले में पधारने वाले लोग लाभान्वित होंगे। इस चार मंजिला इमारत में पुस्तकालय, कॉन्फ्रेंस हॉल, बिश्नोई पंथ, इतिहास एवं साहित्य से संबंधित चित्र दीर्घा का निर्माण होगा। मुकाम पधारने वाले लोगों के लिए यह ज्ञानवर्धक आकर्षण का केंद्र होगा। बिश्नोई समाज के पर्यावरण संरक्षक बलिदानी इतिहास और जाम्भाणी साहित्य पर शोधकार्य करने वाले लोगों को यहां तमाम सुविधाएं उपलब्ध रहेगी। उन्होंने समाज से आह्वान किया कि वे इस भवन निर्माण के पुनीत कार्य में अपना सहयोग प्रदान करें। समारोह को मुख्य अतिथि नोखा के विधायक बिहारीलाल बिश्नोई ने अकादमी के कार्यों की सराहना करते हुए कहा की अभी अकादमी की स्थापना का एक दशक ही पूर्ण हुआ परन्तु इसने साहित्य प्रकाशन व अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों के द्वारा जो उल्लेखनीय कार्य किया है उससे गुरु जाम्भोजी की सर्वहितकारी वाणी का संदेश दूर तक गया है। भविष्य में यह और तीव्र गति से कार्य करे तथा भयानक पर्यावरण प्रदूषण व परस्पर वैमनस्यता से ग्रस्त विश्व में सद्भाव कायम रखते हुए धरती की रक्षा की में अपना अमूल्य योगदान दे। यह भवन इस इसमें मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने अपने विधायक कोटे से पुस्तकालय निर्माण के लिए बीस लाख का अनुदान भी दिया।
यह समारोह मुकाम पीठाधीश्वर स्वामी रामानंदजी आचार्य, श्रीमहंत स्वामी शिवदासजी शास्त्री, समराथल महंत स्वामी छगनप्रकाशजी, महंत स्वामी रामकृष्णजी, सोनड़ी महंत डॉ संत आचार्य गोरधनरामजी शिक्षाशास्त्री, मेहराणा धोरा महंत स्वामी मनोहरदासजी शास्त्री, स्वामी चेतनप्रकाशजी, स्वामी रमतानंदजी, स्वामी श्रवणदासजी, स्वामी मोहनदासजी, स्वामी सुन्दरदासजी, कथावाचक डॉ मधु बिश्नोई के पावन सान्निध्य में संपन्न हुआ। इस समारोह में डॉ सरस्वती बिश्नोई, देवेंद्र बिश्नोई आईपीएस, भाजपा के पूर्व प्रदेश सचिव युवा नेता के के बिश्नोई, महासचिव विनोद जम्भ दास, डॉ बनवारीलाल सहू, राजाराम धारणियां, रामस्वरूप धारणियां, मोहनलाल लोहमरोड़ बीडीओ, रुपाराम कालीराणा, प्रदीप बैनीवाल, डॉ सुरेन्द्र कुमार, डॉ भंवरलाल बिश्नोई, डॉ सतपाल, ठेकेदार सुखराम बोला, सुरेन्द्र गोदारा, अमरचंद दिलोईया, सुजानाराम, रमेश बाबल, ओमप्रकाश गोदारा एडीएम, पूनमचंद पंवार,आर डी झूरिया, नारायण पंवार, बुधराम सहारण, राममूर्ति भादू, रामसिंह कस्वां, रामकुमार डेलू, डॉ सुनीता बिश्नोई, संगीता बिश्नोई, डिंपल बिश्नोई, ममता सहारण, डॉ अनिला पुरोहित, रविन्द्र थापन, सोहनलाल ईसरवाल, बनवारीलाल डेलू, डॉ राजेन्द्र पुरोहित, अरविंद गोदारा, संदीप धारणियां, रामलाल थापन, डॉ भंवरलाल उमरलाई, विनोद काकड़, पृथ्वीसिंह गीला, डॉ हरिराम,गोरधन बांगड़वा, हनुमान भाम्भू, मांगीलाल बुड़िया, सुरेन्द्र थापन,जगराम खिलेरी, सूबेदार केहराराम, अर्जुनराम खिलेरी, हरिराम खीचड़, मोहनलाल खिलेरी, ओमप्रकाश मांझू,भारमल खिलेरी, अशोक बोला, जयकिशन बाबल, बलदेव राम सोउ, हनुमान दिलोईया, ठेकेदार नानूराम सुथार, आर्किटेक्ट रविन्द्र राहड़ आदि गणमान्य लोग उपस्थित थे

खबर

http://

Related Post

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: